Rukh Se Parda Utha De Zara Jagjit Singh

Rukh Se Parda Utha De Zara Lyrics – Jagjit Singh

Rukh Se Parda Lyrics


Rukh Se Parda Lyrics in Hindi

रुख़ से परदा उठा दे ज़रा साक़िया
बस अभी रंग-ए-महफ़िल बदल जायेगा
है जो बेहोश वो होश में आयेगा
गिरनेवाला है जो वो संभल जायेगा

तुम तसल्ली ना दो सिर्फ़ बैठे रहो
वक़्त कुछ मेरे मरने का टल जायेगा
क्या ये कम है मसीहा के रहने ही से
मौत का भी इरादा बदल जायेगा

मेरा दामन तो जल ही चुका है मग़र
आँच तुम पर भी आये गंवारा नहीं
मेरे आँसू ना पोंछो ख़ुदा के लिये
वरना दामन तुम्हारा भी जल जायेगा

तीर की जाँ है दिल, दिल की जाँ तीर है
तीर को ना यूँ खींचो कहा मान लो
तीर खींचा तो दिल भी निकल आयेगा
दिल जो निकला तो दम भी निकल जायेगा

फूल कुछ इस तरह तोड़ ऐ बाग़बाँ
शाख़ हिलने ना पाये ना आवाज़ हो
वरना गुलशन पे रौनक ना फ़िर आयेगी
हर कली का दिल जो दहल जायेगा

मेरी फ़रियाद से वो तड़प जायेंगे
मेरे दिल को मलाल इसका होगा मगर
क्या ये कम है वो बेनक़ाब आयेंगे
मरनेवाले का अरमाँ निकल जायेगा

इसके हँसने में रोने का अन्दाज़ है
ख़ाक उड़ाने में फ़रियाद का राज़ है
इसको छेड़ो ना ‘अनवर’ ख़ुदा के लिये
वरना बीमार का दम निकल जायेगा

Rukh Se Parda Lyrics in English

Rukh se parda utha de zara saqiya
Bas abhi rang-e-mehfil badal jaayega
Hai jo behosh wo hosh mein aayega
Giranewala hai jo wo sambhal jayega

Tum tassalli na do sirf baithe raho
Waqt kuch mere marne ka tal jaayega
Kyaa ye kam hai masiha ke rahne hi se
Maut ka bhi irada badal jaayega

Mera daaman to jal hi chuka hain magar
Aanch tum par bhi aaye gawaara nahi
Mere aansu na pocho khuda ke liye
Warna daaman tumhara bhi jal jaayega

Teer ki jaan hain dil, dil ki jaan teer hain
Teer ko na yun kheencho kahaa maan lo
Teer kheencha to dil bhi nikal aayega
Dil jo nikala to dam bhi nikal jaayega

Phool kuch is tarah tode ay baagbaan
Shaakh hilne na paaye na aawaz ho
Warna ghulshan pe raunak na phir aayegi
Har kali ka dil jo dahel jaayega

Meri fariyaad se wo tadap jaayenge
Mere dil ko malaal iskaa hoga magar
Kya ye kam hai wo benaqaab aayenge
Marnewaale ka armaan nikal jayega

Iske hansne me rone ka andaaz hai
Khaaq udaane me fariyaad ka raaz hai
Isko chedo na ‘Anwar’ khuda ke liye
Warna beemar ka dam nikal jaayega


Rukh Se Parda Utha De Zara
About: Jagjit Chitra Singh
Tags:jagjit singh, chitra singh, muntazir, yadon ka safar, ghazal maestro jagjit singh, the master and his magic, tera bayaan ghalib

Leave a Reply