Na kisi ki aankh ka noor hoon Lyrics Laal Quila

Na kisi ki aankh ka noor hoon Lyrics

Na kisi ki aankh ka noor hoon Lyrics Laal Quila


न किसी की आँख का नूर हूँ, न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके, मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ

न तो मैं किसी का हबीब हूँ, न तो मैं किसी का रक़ीब हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ, जो उजड़ गया वो दयार हूँ
न किसी की आँख का…

मेरा रंग रूप बिगड़ गया, मेरा यार मुझसे बिछड़ गया
जो चमन ख़िज़ां से उजड़ गया, मैं उसी की फ़स्ल-ए-बहार हूँ
न किसी की आँख का…

पए-फ़ातेहा कोई आये क्यूँ, कोई चार फूल चढ़ाये क्यूँ
कोई आ के शम्मा जलाये क्यूँ, मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ
न किसी की आँख का..


Na kisi ki aankh ka noor hoon Lyrics
About: Song : Na kisi ki aankh ka noor hoon Movie : Laal Quila (1960) Singer : Mohammad Rafi, Lyricist : Muztar Khairabadi, Music Director : S N TripathiDirector:
Tags:na kisi ki aankh ka noor hoon, lal kila, 1960, laal quila, bahadur shah zafar, aakhiri mugal, mohammad rafi, s.n. tripathy, nirupa roy, jayraaj, bharat bhushan, helen, mastkalandMuztar Khairabadi, hindi old is gold, hindi oldies, indian, bollywoodr

Leave a Reply